ज़िन्दगी तो अपने दम पर ही जी जाती हे ,,
दूसरो के कन्धों पर तो सिर्फ जनाजे उठाये जाते हैं ll
ज़िन्दगी तो अपने दम पर ही जी जाती हे ,, दूसरो के कन्धों पर तो सिर्फ जनाजे उठाये जाते हैं ll